जहाँ चाह, वहाँ राह ! | एक नाम जो सेवा का पर्याय बना – विष्णु कुमार जी |गुजरात बाढ़ – स्वयंसेवकों का भागीरथ अभियान

सेवागाथा - संघ के सेवाविभाग की नई वेबसाइट

परिवर्तन यात्रा

स्वावलंबन केंद्र में सिलाई सीखती महिलाएं

जहाँ चाह, वहाँ राह

विजयलक्ष्मी सिंह

जिसके घर का बजट हमेशा पैसे की कमी से गड़बड़ाता रहा, वही दीपिका अब ऑडिटर के रूप में सरकारी बजट की निगरानी करेगी| हालांकि सफलता की यह इबारत लिखना दीपिका के लिए आसान नहीं रहा। मजदूरी करते-करते पिता को बीमारी ने आ घेरा व् माँ कभी घर से बाहर निकल नहीं पाई| घर के छोटे से कमरे में दूसरों को टयूशन पढाते हुए,

और जानिये

समर्पित जीवन

नव दधीची नानाजी देशमुख

एक निष्काम कर्मयोगी -नानाजी देशमुख

विजयलक्ष्मी सिंह

प्रसिद्ध उद्योगपति घनश्यामदास बिरला आज से 77 वर्ष पहले इस युवक को अपना पर्सनल सेक्रेटरी बनाना चाहते थे । बढ़िया सैलरी के साथ रहना व खाना मुफ्त था। 21 वर्ष के इस युवक ने राजस्थान में फेमस प्लानी के बिड़ला काॅलेज में फुटबाल से लेकर वाद-विवाद व पढ़ाई हर क्षेत्र

और जानिये

सेवादूत

बाढ़ से बचाई हज़ारों जिंदगियाँ– गुजरात बाढ़ में स्वयंसेवकों का भागीरथ अभियान

विजयलक्ष्मी सिंह

यूं तो अक्सर आपदाएं बता कर नहीं आती, मगर कई बार वह बाकायदा मुनादी करवा कर भी चलीं आती हैं- जुलाई 2017 में गुजरात में भी कुछ ऐसा ही घटा। राजस्थान के जैतपुरा बांध से निकला पानी गुजरात आते -आते भीषण बाढ़ मे बदल गया । अब तक जिन गाँवो में लोगों ने अपनी जिंदगी में कभी 2 फीट पानी भी नहीं देखा था, वे प्रशासन की खतरे की चेतावनी को गंभीरता से क्यों लेते ! पहली सूचना मिलते ही सर पर कफन बांध खतरे की जद में आने वाले गांवो की ओर चल पड़े स्वयंसेवक एक्शन प्लान बना व स्वयंसेवकों की सजगता व तत्परता ने हजारों जिंदगियाँ बचा लीं । जिस क्षण प्रशासन ने राजस्थान से गुजरात की ओर तेज़ी से उफनते बांध के अनियंत्रित पानी से बाढ़ की चेतावनी जारी की, तभी संघ टीम एक्टिव हो ग्ई ....23 जुलाई.... की रात के करीब 1 बजे पालनपुर जिले के सेवाप्रमुख गोविंदभाई प्रजापति को पता चला कि राजस्थान से बाँध का पानी तेज रफ्तार से गुजरात की तरफ बढ़ रहा है, तो तत्काल ही धानेरा ,बनासकांठा और डीसा आदि में वरिष्ठ स्वयंसेवकों के मध्य

और जानिये
//