एक आदर्श गाँव -मोहद | महाविनाश में सृजन -केदारघाटी में देवदूत |- एक समर्पित जीवन -यादवराव जोशी

सेवागाथा - संघ के सेवाविभाग की नई वेबसाइट

परिवर्तन यात्रा

एक आदर्श गाँव मोहद

शैलजा शुक्ला

यहाँ प्रवेश करते ही लगता है कि, हम किसी विशेष गांव में आ गए हैं ।घर-घर के दरवाजे पर ओम व स्वस्तिक की छाप ,दीवारों पर जतन से उकेरे गए सुविचार, तो कहीं ब्रम्हांड के रहस्यों को परत दर परत खोलती जानकारियाँ ,तो कहीं चौपालों पर संस्कृत में अभिवादन करते लोग । वैदिक युग की छाप से नजर आते इस गांव में जब

और जानिये

समर्पित जीवन

दक्षिण के सेनापति यादवराव जोशी

तुशमुल मिश्रा

ठिगने कद के, साधारण से दिखने वाले धुन के पक्के एक मराठी भाषी युवक ने अपने जिंदगी 50 साल दक्षिण –भारत को दिए व इतिहास रच दिया । कर्नाटक में प्रचारक बनकर आने से पहले यादवराव जोशी ने शायद ही कभी कन्नड़ सुनी हो पर पूरा जीवन कन्नड.भाषी लोगों के दिलों पर राज किया ।

और जानिये

सेवादूत

महाविनाश में सृजन केदारघाटी में देवदूत

विजयलक्ष्मी सिंह

केदारघाटी में आया जलप्रलय ,शायद ही कोई भूला होगा ,। जीवन देने वाले जल को प्रलय बनकर कहर ढाते ,अपनों को खो चुके लोगों की चीख -पुकार के बीच मानवता को कराहते , तीर्थयात्रियों की बेबसी पर अलकनंदा को मौन आँसू बहाते, हम सबने अपने –अपने घरों में टीवी चैनलों पर देखा । परंतु हम में से किसी ने मानवता का वो रूप नहीं देखा जो इन कठिन पलों में यात्रियों का सबसे बडा. सहारा बना ।आपदा की घड़ी में , बरसते पानी में, मलबा बन चुकी सड़कों पर,जानलेवा रस्तों से गुजरते रात दिन सेवाकार्य में जुटे रहे संघ के स्वयंसेवक ।

और जानिये