जहाँ चाह, वहाँ राह ! | एक नाम जो सेवा का पर्याय बना – विष्णु कुमार जी |गुजरात बाढ़ – स्वयंसेवकों का भागीरथ अभियान

सेवागाथा - राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) के सेवाविभाग की नई वेबसाइट

परिवर्तन यात्रा

राजेंद्र प्रसाद अस्पताल कांगडा में मरीजों की मदद की मुहिम

पर्वत के उस पार ...।हिमाचल में सेवाभारती की सेवायात्रा

शैलजा शुक्ला

पर्वतीय क्षेत्रों में कुछ दिन सैरसपाटा करने आए पर्यटकों के लिए बर्फ़बारी जहाँ अलौकिक आनंद सरीखा है, वहीं इन हॉट टूरिस्ट्-डेस्टिनेशन्स से थोड़ा दूर अनाम से पर्वतीय इलाकों में रहने वाले ग्रामीणों के लिए बर्फबारी एक ऐसा संकट है, जो ....

और जानिये

समर्पित जीवन

चिरयुवा- किशाभाऊ पटवर्धन

चिरयुवा कर्मयोगी- किशाभाऊ पटवर्धन

विजयलक्ष्मी सिंह

सरकारी नौकरी करने वाले किसी भी शिक्षक के लिए रिटायरमेंट का दिन उसके लिए ढेर सारा आराम व मनमुताबिक फुरसत लेकर आता है। किंतु कुछ लोग चिर युवा होते हैं , वे जीवन की अंतिम सांस तक काम करते रहते हैं।स्वर्गीय किशाभाऊ पटवर्धन भी ऐसे ही एक बिरले इंसान थे ।पूना के एक सरकारी विद्यालय से प्रिंसिपल के रूप में रिटायर होते ही उन्होंने अपने लिए एक नया कर्म क्षेत्र चुना। जीवन की इस दूसरी पारी में किशाभाऊ ने गरीब मेधावी बच्चों को पढाने व बढ़ाने के लिए स्वरूप वर्धिनी नामक संस्था की स्थापना की ।अपने जीवन के 10 वर्ष राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रचारक रहे किशाभाऊ ने स्वरूप वर्धिनी की शाखा में शिक्षा का आयाम जोड़कर उसे बहुमुखी बनाया। 

 

और जानिये

सेवादूत

डूबते ‘केरल’ की पतवार बना ‘संघ’

अंबरीष पाठक

मध्य जुलाई 2018 – मानसून अभी शुरू ही हुआ था , देश के बाकी हिस्से में वर्षा जहाॅ राहत की फुहार बनकर बरस रही थी वहीं केरल में सबकुछ ठीक नहीं था।  केरल- जिसे गॉडस ओन कंट्री (देवों का अपना देश) भी कहा जाता है- में जारी भारी वर्षा पिछले सारे रिकार्ड तोड़े दे रही थी। मौसमविज्ञानियों के माथे पर चिंता की लकीरें गहराने लगीं थीं। अंततः 8 अगस्त 2018 की शाम आते-आते केरल  मे स्थित सभी 54 बांधों का वाटर लेवल खतरे की जद में था। और………. केवल  24 घंटे के भीतर इनमें से 34 बांधो के गेट खोलने पड़े। 26 वर्षों में पहली बार इडदुकु बांध के पांचों द्वारों को एकसाथ खोला गया। अब लगभग पूरा केरल अभूतपूर्व जल प्रलय की जद में था। 

और जानिये